रैम क्या है? (What is RAM)

हेल्लो दोस्तों उम्मीद करता हूँ आप लोग खुश होंगे | दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं कि - रैम क्या है ? ये कितने प्रकार का होता है ? और इसका इस्तेमाल कहाँ होता है?
What is Ram



RAM क्या है?

इस शब्द से लगभग सभी स्मार्टफोन यूज़ करने वाले लोग परिचित हैं| जब आप नया मोबाइल लेने जाते हैं तो आप के मन में यहीं सवाल रहता है कि आपको कितनी RAM वाला मोबाइल लेना चाहिए| जिससे आपको आगे चलकर मोबाइल में कोई परेशानी सामने नहीं आये RAM की बात करे तो यह कंप्यूटर हो या मोबाइल सभी डिवाइस में बेहद महत्वपूर्ण चीज़ है क्योंकि इसके कारण ही कोई भी Device बेहतर तरीके से काम करती है अगर आप भी नहीं जानते है कि RAM क्या है? और ये कैसे काम करता है? और आपके मोबाइल या कंप्यूटर में कितनी RAM होनी चाहिए? तो इस Post को अंत तक पढ़ें |
हेल्लो दोस्तों मेरा नाम है सादिक़ है, और आज हम जानेंगे RAM के बारे में
तो चलिए कुछ नया सीख लेते हैं |

RAM का फुलफॉर्म Random Access Memory होता है | इसको Direct Access Memory भी बोला जाता हैयह Memory ज़्यादा तौर पर Computer में कम Size में रहती है|
इसकी फुल फॉर्म से तो RAM के बारे में कुछ भी पता नहीं चल रहा है इसलिए इसे एक साधारण उदाहरण के ज़रिये समझेंगे.
जब भी आप अपने Mobile को चलाते हो तो उसमें Game खेलते होबहुत सारे Application चलाते होफोटो विडियो Edit करते हो, Movies देखते हो, Music सुनते हो, तो इन सबके लिए Mobile को Space चाहिए और वो Space RAM ही से आता है
और एक आसान सा उदाहरण ले कर बताता हूं आपको, जब आप कोई खेलते हो तो वह Bathroom में जाकर तो नहीं खेलते उसके लिए तो ज़्यादा जगह चाहिए जैसे की Playground या फिर गली मेंतो ऐसे ही आप जब भी Mobile में दिनभर कुछ भी काम करते हो तो वह सब काम जिस Memory कि मदद से होता है वह RAM ही होता हैइसलिए बोलते हैं भाई RAM ज्यादा हुआ तो उतना ज्यादा Application अपने Mobile में एक साथ चला सकते हो| और जब किसी App को Open करते हैं तो App को Open होने में चंद सेकंड का समय लगता है |
ये इसलिए होता है क्योंकि रैम की स्पीड बहुत तेज़ होती है आप इस बात से अंदाज़ा लगा सकते हैं कि 1GB रैम को बनाने में उतना खर्च आता है जितना कि 16GB के मेमोरी कार्ड बनाने में होता है |

RAM कितना होना ज़रूरी है?

RAM क्या है? ये तो आप जान गए होंगे अब ये भी जानना चाहते होंगे कि कितनी RAM होना जरुरी है. आज के समय देखा जाए तो किसी भी मोबाइल में कम से कम 2 GB रैम होना चाहिए, क्योंकि आजकल के App का Size धीरे धीरे बढ़ रहा है जैसे Facebook की बात करें तो वह जब Open होता है तो 200 से 300 MB रेम खर्च हो जाती है|

Facebook ही नहीं बाकि App के साइज़ Upgrade होने के साथ साथ इनके साइज़ भी बढ़ते जा रहे हैं| इसलिए अगर आप चाहते हैं कि मोबाइल में Multi-Tasking कर सकें तो मोबाइल में कम से कम 2 GB रैम होना आवश्यक जिससे मोबाइल Hanging की समस्या सामने न आये| वैसे आप चाहे तो 3 GB या 4 GB वाले स्मार्टफोन की तरफ भी ध्यान दे सकते हैं क्योंकि अभी तो 2 GB ही काम दे देगा लेकिन भविष्य में आपको 2 GB में Problem आने लग जाएगी|

तो अब आप रैम के बारे में काफी कुछ जान गए होंगे, आपको पता चल गया होगा कि Ram क्या है वैसे आपको एक और चीज़ बता दें कि आपको जितना हो सके ज़्यादा Ram की डिवाइस खरीदनी चाहिए, क्योंकि RAM ऐसी चीज़ है जिसे बाद में बढ़ाया नहीं जा सकता है हालाकि कंप्यूटर में RAM बढ़ाने का Option होता है| लेकिन मोबाइल ये Option नहीं मिलता है| कुछ एप हैं जो रूट होने के बाद फोन की मेमोरी को RAM में बदल देते हैं लेकिन इससे कुछ फायदा नहीं होता है बल्कि मोबाइल पहले से और भी ज़्यादा Slow हो जाता है|

RAM के क्या-क्या विसेसता होते हैं?

(Characteristics of RAM in Hindi)

RAM के बारे में तो जान ही गए हैं, लेकिन इसके Properties क्या क्या हैं, आपको ये भी जानना चाहिए, चलिए जानते हैं-

  • RAM Volatile Memory है|
  • इसकी Capacity कम होती है|
  •  इस Memory को CPU इस्तेमाल करता है|
  • यह दुसरे Memory कि तुलना में ज़्यादा महंगी होती है|
  • इसको Computer की Working Memory भी बोला जाता है|
  • जब बिजली बंद हो जाती है तो यह Memory खाली हो जाती है|
  •  सब Program, Application, Instruction इसी Memory में ही चलते हैं|
  • इसके स्पीड की बात की जाए तो इसमें काफी हद तक स्पीड होती है|

अब मैं आपको बताऊंगा कि RAM कितने प्रकार के होते हैं और कौन-कौन से होते हैं-
वैसे तो दो प्रकार के होते हैं-


  • Static RAM
  • Dynamic RAM

1. Static RAM क्या है?

ये Static शब्द से ही पता चल रहा हैकि ये स्थिर है| मतलब इसमें Data तब तक रहेगा जब तक इस में बिजली आती रहेगी| इसको SRAM भी बोला जाता है| इसको बार बार Refresh करने की कोई जरुरत नहीं होती है| इसलिए SRAM को बनाने में पैसे अधिक लगते हैं|

Characteristic of SRAM in Hindi

·         इसकी Size ज़्यादा है|
·         इसे ज़्यादा Power चाहिए|
·         ये बहुत दिनों तक चलती है|
·         इसकी Speed काफी तेज़ है|
·         दुसरे Memory कि तुलना में महँगी है|
·         इसको बार बार Refresh करने की ज़रुरत नहीं पड़ती है|
·         इसको Cache Memory के लिए इस्तेमाल किया जाता है|

2. Dynamic RAM क्या है?

इसको DRAM भी बोला जाता हैये SRAM का पूरा विपरीत (Opposite) है| इसको बार बार Refresh करने की ज़रुरत पड़ती हैअगर Data को बरक़रार रखना है तो. ये केवल तभी हो सकता है जब इस Memory को एक Refresh CIRCUIT के साथ जोड़ा जाये| अधिकांस समय इस DRAM को System Memory बनाने में इस्तेमाल होता है| ये DRAM एक Capacitor और एक Transistor से बना हुआ है|

Characteristics of  DRAM in Hindi

·         इसे कम Power चाहिए|
·         दुसरो से सस्ती होती है|
·         इसकी Size कम होती है|
·         इसकी Speed काफी धीमी है.
·         ये बोहत कम दिनों तक चलती है|
·         इसको बार बार Refresh करने की ज़रुरत पड़ती है|
·         इसको Cache Memory के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाता है|

मेरा अंतिम निर्णय

तो दोस्तों आज की जानकारी थी RAM क्या है (What is RAM in Hindi) आपको काफी अच्छी लगी होगी, उमीद करता हूँ आपको ये जानकारी आपके काम आये| वैसे आप इस काबिल तो बन ही गए हो की ज़्यादा RAM वाला Mobile क्यों खरीदना चाहिएRAM की Capacity दिन प्रति दिन बढ़ रही है जिससे Mobile की Speed भी बढ़ेगी|
SRAM और DRAM में क्या अंतर है (What is SRAM & DRAM in Hindi) ये भी जान गए| अगर अभी भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हों, तो निचे Comment Box में ज़रुर लिखें और हमरे Blog को Subscribe ज़रूर करें|
Thank You ☺



Post a Comment

0 Comments